SC/ST उद्यमियों के लिए वेब पोर्टल लांच किया गया

पटना: शुक्रवार को उद्योग मंत्री जय कुमार सिंह ने Chief Minister SC/ST Entrepreneurship Scheme के तहत SC/ST उद्यमियों के लिए, जिन्होंने या तो कोई उपक्रम स्थापित किया हुआ है, या फिर करने की योजना बना रहे हैं, एक वेब पोर्टल की शुरुआत की. इस मौके पर श्री जय कुमार सिंह ने कहा, “ उद्योग संवाद (udyog.bihar.gov.in)में अब से SC/ST उद्यमियों के निबंधन के लिए एक नया सेक्शन डेवलप किया गया है, जहाँ डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी उभरते उद्यमियों को डेली मॉनिटर करेंगे. निबंधन और डॉक्यूमेंट के वेरिफिकेशन के लिए एक समिति बनायी गयी है. इसके बाद उद्यमियों को 15 दिन की ट्रेनिंग दी जायेगी. इस ट्रेनिंग को पूरा करने के बाद उद्यमी समिति से डायरेक्ट फण्ड पाएंगे. उन्होंने कहा, “ ट्रेनिंग की व्यवस्था के लिए हमलोग विभिन्न कॉलेजों और संस्थाओं के साथ बातचीत कर रहे हैं. चन्द्रगुप्त मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट, ए एन कॉलेज, L N Mishra Institute of Economic Development & Social Changes के साथ हमने टाई अप कर लिया है.

डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी एस सिद्दार्थ ने कहा: समिति में बिहार चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज, बिहार राज्य वित्त निगम, BIADA- Bihar Industrial Area Development Authority, डेवलपमेंट मैनेजमेंट इंस्टिट्यूट के वरिष्ठ अधिकारी रहेंगे. उन्होंने कहा कि शुरुआत में सरकार ने इस स्कीम के तहत 102.5 करोड़ दिया है. इस योजना का उद्देश्य सरकार और नए उभरते हुए उद्यमियों के बीच परस्पर संवाद स्थापित करना है ताकि उद्यम शुरू करने में जो भी दिक्कतें आये, उनका निबटारा किया जा सके.

स्कीम की विशेषता:

इस स्कीम के तहत उद्यमी को स्टार्ट अप शुरू करने के लिए 10 लाख रूपये दिए जायेंगे. इसमें 50% सब्सिडी होगी और पहले इंस्टालमेंट के रूप में 2.5 लाख रूपये दिए जायेंगे. इस स्कीम के तहत आवेदनकर्ता को इस लोन पर कोई ब्याज नहीं देना होगा. 14 महीने के बाद उद्यमी 7 साल में 84 इंस्टालमेंट में लोन चुका सकते हैं.


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.