बाय मॉम, मेरे लिए मत रोना !! गंगा है या पाताल लोक? 72 घंटे बाद भी स्कार्पियो का कोई निशां नहीं

पटना। गांधी सेतु से गंगाजी में गिरी स्कॉर्पियो की घटना के 72 घंटे से अधिक समय बीत जाने के बाद भी गाड़ी का पता नहीं चल पाया है। इस घटना में जिस आदर्श नामक लड़के के गाय़ब होने की बात सामने आ रही है उसके घर वाले इस बात को मानने को तैयार नहीं है कि लड़के ने सुसाइड किया है। जबकि साक्ष्य उसके सुसाइड की ओर इशारा कर रहे हैं। सिटी एसपी ईस्ट आरके भील ने कहा कि घटना से पहले उसने मां को सुबह करीब पांच बजे वाट्सएप से मैसेज भेजा था- बाय मॉम, मेरे लिए मत रोना। चर्चा है कि उसने एक दोस्त को कहा- अब हम रहेंगे या नहीं रहेंगे, कोई नहीं जानता है। मुझे मत खोजना। हालांकि, पुलिस अभी उसके सुसाइड की पुष्टि नहीं कर रही है।

patna after 3 days bihar police did not get any clue of scorpio which jumped into gangaji

एसएसपी मनु महाराज ने कहा कि जब तक गाड़ी नहीं मिल जाती, कुछ कहना मुश्किल है। आदर्श के पिता दवा कारोबारी बिपिन कुमार सिंह ने कहा- जब तक गाड़ी बरामद नहीं होती, यकीन नहीं हो रहा है। इस पूरे घटनाक्रम में जो बात सामने आ रही है उससे ऐसा लग रहा है कि यह पूरा मामला प्रेम-प्रसंग में सुसाइड का है। पुलिस जांच में जो बात सामने आर रही है, उसके मुताबिक कंकड़बाग के पीसी कॉलोनी में रहने वाले नौंवी के छात्र आदर्श की गर्लफ्रेंड से इंस्टाग्राम पर चैट करने के दौरान अनबन हुई। वह मंगलवार की रात मां के साथ सोया था। इस बीच वह उठा। दबे पांव मोबाइल की लाइट जलाते और चैट करते नीचे आया। सुबह करीब 3:16 बजे स्कार्पियो (बीआर 01 पीजे 2028) लेकर बुद्धा कॉलोनी स्थित प्रेमिका के घर के पास पहुंचा। वहां से दोनों गाड़ी पर सवार होकर निकल गए। दोनों ने इनकम टैक्स गोलंबर और उसके आसपास घूमा।

बताया जा रहा है कि इस दौरान वह 140 किमी की रफ्तार से गाड़ी चला रहा था। इस बीच आयकर गोलंबर के पास उसका एक्सीडेंट भी हुआ। फिर वहां से आदर्श ने गर्लफ्रेंड को उसके घर छोड़ दिया। जिसके बाद वहर बांस घाट, गांधी मैदान, अशोक राजपथ होते हुए धनुकी मोड़ गया। धुनकी मोड़ पर लगे सीसीटीवी कैमरे में उसकी गाड़ी की तस्वीर सवा पांच बजे कैद हुई। फिर वह गांधी सेतु से हाजीपुर की ओर गया, लेकिन ऐसा लगता है कि बीच रास्ते से ही लौट गया और उसके बाद तेज रफ्तार से 5:22 बजे पाया नंबर 38 के पास रेलिंग को तोड़ते हुए गंगा में समा गया।

इधर आदर्श के पिता अभी भी बेटे की मौत को मानने को तैयार नहीं है। पिता का कहना है कि पुलिस दोनों बहनों व उसके परिजनों से ठीक से पूछताछ करे। लगता है कि उन्हीं लोगों ने बेटे को अगवा कर लिया। पुलिस मामले की बारीकी से छानबीन करे।

ये भी पढ़ें

जदयू विधायक बीमा भारती के बेटे का शव रेलवे ट्रैक पर मिला, CM नीतीश घर पहुंचे
गाँधी सेतु से स्कार्पियो ने रेलिंग तोड़ते हुए गंगा में छलांग लगाया
सेक्स, क्राइम और सीबीआई: बिहार की राजनीति को हिला देने वाले हत्याकांड

[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.