टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में वे दो ऐतिहासिक मौके जब मैच टाई हो गये थे

आज के 20 -20 क्रिकेट के जमाने में टेस्ट क्रिकेट कहीं पीछे छूट गए हैं, लोगों को फ़ास्ट पेस्ड एक्शन की आदत लग गयी है, ऐसे में टेस्ट क्रिकेट बोरिंग लगने लगे हैं. पर टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में दो मौके ऐसे आये, जब किसी टीम ने न जीत दर्ज की, न हार मिली, न मैच ड्रा हुआ, बल्कि मैच ड्रा हो गया. ऐसे में रोमांच मैच के अंतिम बॉल तक चला. दोनों मौके पर एक टीम ऑस्ट्रेलिया थी, और दो टीमों में एक बार वेस्ट इंडीज और दूसरी बार इंडिया.

आज आपको उन दोनों रोमांचक टेस्ट मैच के बारे में बताते हैं:

 

Australia vs West indies, Birsbane Test, 1960


ब्रिसबेन के ऐतिहासिक मैदान पर  सांसे थमा देने वाले कई मैच हो चुके हैं. यह मैदान टेस्ट क्रिकेट इतिहास के पहले टाई मैच का भी गवाह रहा है. यह मैच 9-14 दिसंबर, 1960 में ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के बीच हुआ था. विंडीज टीम की कप्तानी फ्रैंक वॉरेल कर रहे थे, तो ऑस्ट्रेलिया के कप्तान रिची बेनो (रिची बेनॉड) थे. उन दिनों विंडीज टीम बहुच मजबूत मानी जाती थी और उसने खेल भी कुछ ऐसा ही दिखाया. पहले बल्लेबाजी करते हुए वेस्टइंडीज ने 453 रन बनाए, जिसमें महान ऑलराउंडर सर गैरी सोबर्स की 132 रनों की तूफानी पारी का अहम योगदान रहा, लेकिन कंगारुओं ने संघर्ष का जज्बा दिखाते हुए अपनी धरती पर खेले जा रहे इस टेस्ट में विंडीज को तगड़ा जवाब दिया और पहली पारी में 505 रन बना दिए, जिसमें नॉर्म ऑनिल ने बड़ी शतकीय पारी (181 रन) खेली. इस प्रकार कंगारुओं को 52 रनों की अहम बढ़त हासिल हो गई, लेकिन दूसरी पारी में विंडीज बल्लेबाजी लड़खड़ा गई और 284 रन पर ही सिमट गई. ऐसे में लगने लगा कि ऑस्ट्रेलिया मैच को कब्जे में कर सकता है, लेकिन असली क्रिकेट का खेल तो अभी बाकी था.

ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए मैच के अंतिम दिन 233 रन बनाने थे, लेकिन विंडीज टीम कहां हार मानने वाली थी. उसने ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी के शीर्ष क्रम को झकझोर दिया. कंगारुओं ने 109 रन पर ही 6 विकेट गंवा दिए. हालांकि कप्तान रिची बेनो और एलन डेविडसन ने मोर्चा संभाले रखा और 134 रनों की साझेदारी करके टीम को मैच में वापस ला दिया. मुकाबला फिर रोमांचक हो गया. कंगारुओं को जीत के लिए केवल 7 रन चाहिए थे, तभी डेविडसन 80 रन पर आउट हो गए. ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए 6 रन बनाने थे. उसने तीन रन बना भी लिए.

अब दिन के अंतिम ओवर की चार गेंदें बाकी थीं, तभी बेनो (52) भी आउट हो गए. ऑस्ट्रेलिया को जीत के लिए आखिरी तीन गेंदों पर 3 रन बनाने थे, लेकिन उसके अंतिम दो विकेट आखिरी की दो गेंदों पर गिर गए और वह भी रनआउट हुए और ऑस्ट्रेलिया ने जीता हुआ मैच गंवा दिया. इस प्रकार यह मैच टेस्ट इतिहास के पहले टाई मैच के रूप में दर्ज हो गया.

India vs Australia, Chennai Test, 1986

इंडिया और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए ऐतिहासिक टेस्ट मैच की करते हैं. यह टेस्ट इतिहास की दृष्टि से टाई हुए महज दो टेस्ट मैचों में से दूसरे नंबर पर है.

यह टेस्ट मैच भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चेन्नई में 18 से 22 सितंबर, 1986 को खेला गया था. यह सीरीज का पहला ही मैच था. ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. उसके मध्यक्रम के धुरंधर बल्लेबाज डीन जॉन्स अस्वस्थ थे और उस दिन लगातार उल्टियां कर रहे थे, फिर भी उन्होंने दोहरा शतक (210) लगा दिया, जबकि ओपनर डेविड बून ने 122 रन और कप्तान एलन बॉर्डर ने भी शतक जड़ा. इस प्रकार ऑस्ट्रेलिया ने 574 रनों का विशाल स्कोर बना दिया.

जवाब में टीम इंडिया पहली पारी में 397 रन ही बना सकी. कप्तान कपिल देव ने 119 रनों की पारी खेली. पहली पारी में बड़ी बढ़त के बाद ऑस्ट्रेलिया ने अपनी दूसरी पारी 5 विकेट पर 170 रन पर घोषित कर दी और टीम इंडिया के सामने जीत के लिए 348 रन का लक्ष्य रख दिया.

पांचवें और अंतिम दिन सुबह सबने यही मान लिया था कि या तो मैच ड्रॉ पर समाप्त होगा या ऑस्ट्रेलिया जीत दर्ज कर लेगा. खुद कप्तान बॉर्डर ने कहा था कि उन्होंने सोचा भी नहीं था कि भारत एक दिन में 348 रनों का पीछा कर सकता है, इसलिए वह खुद को सुरक्षित महसूस कर रहे थे और उन्हें भरोसा था कि वह मैच जीत जाएंगे, लेकिन टीम इंडिया ने तो गजब ही कर दिया.

आमतौर पर धीमी बल्लेबाजी के लिए मशहूर टीम इंडिया के ओपनर महान सुनील गावस्कर ने मैदान के चारों ओर शॉट लगाने शुरू कर दिए. गावस्कर ने 90 रनों की पारी खेली, जिसमें 12 चौके और एक छक्का लगाया. के श्रीकांत ने 39, तो मोहिंदर अमरनाथ ने 51 रन की तेज पारी खेली. अजहरुद्दीन (42) और चंद्रकांत पंडित (39) ने भी बखूबी बैटिंग की.

वो ग्रेग मैथ्यूज की घुमती गेंदें:

रवि शास्त्री ने एक छोर संभाले रखा था, लेकिन दूसरे छोर से धड़ाधड़ विकेट गिरने शुरू हो गए थे. टीम इंडिया ने 16 रन पर ही 4 विकेट खो दिए. टीम इंडिया का स्कोर 344 रन पर 9 विकेट हो गया और उसे जीत के लिए 4 रन बनाने थे. रवि शास्त्री स्ट्राइक पर थे. उन्होंने दो रन दौड़कर लिए और फिर सिंगल ले लिया, जिससे स्कोर बराबरी पर आ गया. मनिंदर सिंह ने चौथी गेंद को डिफेंड कर दिया. पांचवीं गेंद पर मनिंदर को अंपायर ने पगबाधा आउट दे दिया. गेंदबाज थे ग्रेग मैथ्यूज. फिर क्या जीत के करीब पहुंचकर टीम इंडिया वंचित रह गई और मैच टाई हो गया, जो टेस्ट इतिहास का महज दूसरा टाई मैच रहा. शास्त्री 40 गेंदों में 48 रन बनाकर नाबाद रहे.

करीब 140 साल लंबे टेस्ट इतिहास में केवल दो टेस्ट मैच ही टाई हुए हैं और ऑस्ट्रेलियाई टीम दोनों बार रोमांचक क्रिकेट की गवाह रही है.


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.