#MeToo: ‘अकबर ने मेरी ब्रा का स्ट्रैप खींचा’ एम जे अकबर पर यौन शोषण के कई आरोप

देश मे #MeToo कैंपेन के जोर पकड़ते ही कई नामी-गिरामी चेहरे कठघरे में खड़े हो गए हैं. विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर, जो कई अखबारों और पत्रिकाओं के संपादक रह चुके हैं, उन पर भी महिला पत्रकारों की सहमति के खिलाफ कदम उठाने और होटल के कमरों में उनसे असहज करने वाले इंटरव्यू करने के आरोप लगे हैं.

कई महिलाओं ने आरोप लगाया है कि सीनियर जर्नलिस्ट रहे अकबर होटल के कमरे में उनका इंटरव्यू लेते थे और उन्हें अपना बिस्तर और शराब ऑफर करते थे. एक महिला ने हार्वे विन्सिटन्स ऑफ द वर्ल्ड नाम से लिखे पोस्ट में कहा है कि अकबर गंदे फोन कॉल, टेक्स्ट, और असहज करने वाले कॉम्प्लिेंट्स में माहिर हैं. फिलहाल एमजे अकबर मोदी सरकार में विदेश राज्य मंत्री हैं.

एशियन एज की एडिटर सुपर्णा शर्मा ने पूर्व पत्रकार और विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर पर आरोप लगाए हैं. इंडियन एक्सप्रेस के साथ बातचीत में सुपर्णा शर्मा ने कहा कि साल 1993 से 1996 के दौरान अकबर उनके बॉस थे और वो अपने काम की रिपोर्ट उन्हें देती थीं. सुपर्णा ने कहा, “मैं एक दिन ऑफिस में काम कर रही थी और अकबर मेरे पीछे खड़े थे. उन्होंने मेरी ब्रा का स्ट्रैप खींचा और धीरे से कुछ कहा, जो मुझे फिलहाल याद नहीं है. मैं डर गई थी.”

जर्नलिस्ट सबा नकवी ने ‘ग्रैंड मुगल सम्राट’ पर लगाया आरोप

एक आर्टिकल में जर्नलिस्ट सबा नकवी ने अपने साथ हुए हैरासमेंट का जिक्र किया है. सबा ने सीधे तौर से उस शख्स का नाम नहीं बताया है. लेकिन हिंट देते हुए कहा कि उसका नाम ‘ग्रैंड मुगल सम्राट’ से मिलता जुलता है.

सबा ने उस शख्स का नाम लिए बगैर कहा कि उसने पहले ऑफिस में प्रताड़ित किया, फिर बाद में वो एक राजनेता बन गया.

अकबर ने मेरी छाती पर हाथ फेरा: गजाला वहाब

जर्नलिस्ट गजाला वहाब ने ‘द वायर’ को अपनी आपबीती सुनाई है. अपने पुराने दिनों को याद करते हुए वहाब ने कहा, ”साल 1994 में उन्होंने इंटर्न के रूप में एशियन एज अखबार ज्वाइन किया था, जहां अकबर एडिटर थे. इस दौरान अकबर ने उन्हें भद्दे मैसेज भेजे और कई बार अपने केबिन में बुलाकर प्रताड़ित भी किया.

एक दिन अकबर ने जब मुझे अपने केबिन में बुलाया, तो वह अपना वीकली कॉलम लिख रहे थे. उन्होंने मुझे डिक्शनरी से कुछ शब्द ढूंढने के लिए कहा. शब्दों को ध्यान से देखने के लिए जब झुकी, तो उन्होंने मेरी छाती से लेकर कमर तक हाथ फेरा. मैं तब बहुत डर गई थी.

वहाब ने बताया कि ऐसा कई बार हुआ है, जब अकबर ने उन्हें छूने की कोशिश की. वहाब ने ब्यूरो चीफ सीमा मुस्तफा से शिकायत भी की थी, लेकिन कुछ एक्शन नहीं लिया गया.

फ्रीलांस जर्नलिस्ट कनिका गहलोत ने कहा कि 1995 से 1997 के दौरान उन्होंने एमजे अकबर के साथ काम किया है, सभी लोगों के साथ उनका व्यवहार बहुत खराब था. घटना के बारे में गहलोत ने बताया कि एक दिन उन्हें भी होटल में बुलाया गया, लेकिन कनिका के एक बार मना करने के बाद अकबर ने फिर दोबारा कभी नहीं बुलाया.

 

साल 2010-11 के दौरान सुतपा पॉल इंडिया टुडे में जर्नलिस्ट थीं. तब जाने-माने एडिटर एमजे अकबर भी इसी कंपनी में थे. सुतपा पॉल का आरोप है कि अकबर ने उन्हें कई बार ड्रिंक करने की जिद की. मना करने पर अकबर कहते थे, ‘न ड्रिंक करती हो, न स्मोक करती हो, किस तरह की जनर्लिस्ट हो तुम.’ सुतपा पॉल ने बताया कि उनके पास बहुत सारे स्टोरी आइडियाज थे, लेकिन अकबर किसी भी स्टोरी आइडिया के बारे में बात नहीं करना चाहते थे.

 

6 अक्टूबर को जर्नलिस्ट प्रेरणा सिंह बिंद्रा ने ट्वीट करके बताया कि उन्हें भी एमजे अकबर ने होटल के कमरे में बुलाया गया था. जब बिंद्रा ने आने से इनकार कर दिया, तब उन्हें परेशान किया गया. बिंद्रा ने बताया कि अकबर ने एक बार पूरी फीचर्स टीम के साथ मीटिंग के दौरान ‘गलत टिप्पणियां’ की थीं. बिंद्रा ये भी याद बताया कि अकबर ऑफिस टीम की दूसरी लड़कियों को भी होटल के कमरों में बुला चुके हैं.

शुमा राहा: 1995 कोलकाता

प्रिया रमानी के बाद एक दूसरी जर्नलिस्ट महिला शुमा राहा ने ट्वीट करके आपबीती सुनाई. शुमा ने कहा कि 1995 में अकबर ने उन्हें कोलकाता के एक होटल में इंटरव्यू के लिए बुलाया था. तब अकबर एशियन एज में संपादक थे.

शुमा के बयान के मुताबिक, अकबर ने उनके साथ कुछ नहीं किया था, लेकिन होटल के एक कमरे में बिस्तर पर बैठकर जिस तरह इंटरव्यू लिया जा रहा था, उस वजह से उन्होंने जॉब का ऑफर ठुकरा दिया.

अकबर पर सबसे पहले प्रिया रमानी ने लगाया आरोप

बड़े-बड़े मीडिया संस्थानों के साथ काम कर चुकी जर्नलिस्ट प्रिया रमानी ने सबसे पहले केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर यौन शौषण का आरोप लगाया. महिला ने हार्वे विन्सिटन्स ऑफ द वर्ल्ड नाम से लिखे एक पोस्ट में कहा है कि अकबर गंदे फोन कॉल, टेक्स्ट और असहज करने वाले कॉम्‍प्‍लीमेंट में माहिर हैं. पहले आर्टिकल में जर्नलिस्ट ने अकबर का नाम नहीं लिया था, लेकिन 8 अक्टूबर को ट्वीट करके उन्होंने सीधे एमजे अकबर का नाम लिया.

कांग्रेस ने मांगा इस्तीफा

कांग्रेस ने बुधवार को कहा कि केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर को यौन उत्पीड़न के आरोपों पर संतोषजनक सफाई देनी चाहिए या तत्काल इस्तीफा देना चाहिए. पार्टी के वरिष्ठ प्रवक्ता एस जयपाल रेड्डी ने कहा, ‘‘जब उनके साथ काम कर चुकी सीनियर पत्रकारों ने आरोप लगाया है तो फिर वह पद पर कैसे बने रह सकते हैं.”

उन्होंने कहा, ‘‘इसमें जांच होने दीजिए. अकबर के आचरण की जांच होनी चाहिए.” रेड्डी ने इस मामले पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की ‘चुप्पी’ पर सवाल खड़े करते हुए कहा, ‘‘वह अपनी जिम्मेदारी से बच रही हैं और इस पर टिप्पणी करने के लिए तैयार नहीं हैं.”

अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर सरकार की चुप्पी ‘अस्वीकार्य’: AIDWA

अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संगठन (AIDWA) ने बुधवार को कहा कि केंद्रीय मंत्री एमजे अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर सरकार की चुप्पी ‘‘अस्वीकार्य” है. एआईडीडब्ल्यूए ने एक बयान में कहा कि यौन उत्पीड़न का सामना करने वाली महिलाओं की दुर्दशा के प्रति उदासीनता मोदी सरकार के रवैये को दर्शाती है.

उन्होंने ने कहा, ‘‘बीजेपी सरकार की उनके मंत्री अकबर समेत कई बड़ी शख्सियतों पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों पर चुप्पी अस्वीकार्य है.” उसने दावा किया कि उन बीजेपी नेताओं पर लगाम कसने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया जिन्होंने दर्दनाक अनुभवों को शेयर कर रही महिलाओं को सार्वजनिक तौर पर यह कहकर अपमानित किया कि वह पैसा कमाने के लिए ऐसे आरोप लगा रही हैं.

#MeToo: कैलाश खेर ने मेरी जांघ पर हाथ रख दिया और कहा तुम बहुत सुंदर हो: सोना महापात्रा

#MeToo: विनता नंदा के बाद संध्या मृदुल ने “संस्कारी बाबूजी” पर लगाए यौन शोषण के आरोप


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

One thought on “#MeToo: ‘अकबर ने मेरी ब्रा का स्ट्रैप खींचा’ एम जे अकबर पर यौन शोषण के कई आरोप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.