भारतीय पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी साहस के लिए लंदन प्रेस फ्रीडम अवार्ड 2018 से सम्मानित

नयी दिल्ली: भारतीय पत्रकार स्वाति चतुर्वेदी को साहस के लिए लंदन प्रेस फ्रीडम अवार्ड 2018 से सम्मानित किया गया है. सत्ताधारी दल भाजपा की आईटी सेल को लेकर खोजी पत्रकारिता के लिए उन्हें इस अवार्ड के लिए चुना गया. ‘आई एम ट्रोल: इनसाइड द सीक्रेट वर्ल्ड ऑफ द बीजेपी डिजिटल आर्मी’ की लेखिका स्वतंत्र पत्रकार स्वाति ने इटली, मोरक्को और तुर्की के पत्रकारों को हराकर यह पुरस्कार जीता.  पुरस्कार जीतने पर स्वाति ने कहा, ‘यह मेरे लिए काफी अहमियत रखता है. मुझे नहीं लगता कि पत्रकारों ने अपना काम करना बंद कर दिया है, लेकिन पूरे दुनिया की सरकारें अपनी आलोचना को लेकर असहिष्णु हो गई हैं.

‘मुझे ऑनलाइन काफी धमकियां दी गईं, लेकिन मैंने इसकी परवाह नहीं की. अगर मैं ऐसा करती तो अपना काम नहीं कर पाती.’ इस कार्यक्रम का आयोजन गुरुवार रात रिपोर्ट्स सैंस फ्रंटियर्स (आरएसएफ) और रिपोर्ट्स विदआउट बॉर्डर्स  ने किया था.

कौन हैं स्वाति चतुर्वेदी?

स्वाति चतुर्वेदी एक भारतीय पत्रकार हैं, जिन्होंने अपने पत्रकारिता के लम्बे करियर में कई अख़बारों और चैनलों के लिए काम किया है. उदाहरण के तौर पर, स्टेट्समैन, इंडियन एक्सप्रेस, हिंदुस्तान टाइम्स, ट्रिब्यून, एनडीटीवी, वायर, गल्फ न्यूज़ आदि. उन्होंने दो किताबें भी लिखीं हैं, एक तो  Daddy’s Girl; दूसरी किताब  I am a Troll: Inside the Secret World of the BJP’s Digital Army. इस दूसरी किताब के लिए उन्हें Reporters without borders  द्वारा कठिन परिस्थितियों में पत्रकारिता करने  लिए पुरस्कार दिया गया है.


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.