#Happy Birthday: पेंटर बनना चाहते थे, फिल्मों में कॉमन मैन के रोल में नाम कमाया अमोल पालेकर ने

जिस तरह से एक आम आदमी के किरदार को पर्दे पर निभाते हुए अमोल पालेकर ने नाम कमाया, उसने बॉलीवुड में आने वाले दौर में कॉमन मैन के किरदार को जीने वाले एक्टर्स के लिए रास्ता बना दिया. नहीं तो इससे पहले स्क्रीन पर larger than life जैसे किरदार ही थोक भाव से  निभाये जाते थे.

24 नवंबर 1944 में जन्में अमोल ने मराठी फिल्म से अपने करियर की शुरुआत की और फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा. लोअर मिडिल क्लास में जन्में अमोल ने मिडिल क्लास आदमी के किरदारों को सिल्वर स्क्रीन पर ऐसे पेश किया कि दर्शकों के दिल में उन्होंने जल्द ही खास जगह बना ली. एक्टर अमोल पालेकर का नाम आते ही गोलमाल के राम प्रसाद दशरथ प्रसाद शर्मा का चेहरा जहन में आता है.

एक्टिंग नहीं, बल्कि पेंटिंग अमोल पालेकर का पहला प्यार: 

अमोल कभी फिल्मों में नहीं आना चाहते थे. उनका पहला प्यार तो पेंटिंग था.  अमोल ने जेजे स्कूल ऑफ फाइन आर्ट्स से पोस्ट ग्रेजुएशन किया.  इसके बाद उन्होंने बतौर पेंटर काम भी करना शुरू कर दिया.  एक इंटरव्यू में अमोल ने कहा कि पढ़ाई खत्म करने के बाद मैंने पेंटिंग के क्षेत्र में करियर बनाने की सोची. मजबूरी में प्रोड्यूसर-एक्टर बना और फिर डायरेक्शन के क्षेत्र में उतर गया.

फिल्मों में आने से पहले अमोल पालेकर बैंक में क्लर्क का काम करते थे. बैंक ऑफ इंडिया में वो 8 साल तक नौकरी करते रहे लेकिन किस्मत का खेल ही रहा कि वो फिल्म इंडस्ट्री में चले आए. अमोल पालेकर के इंडस्ट्री में आने के पीछे एक बेहद खास शख्स का हाथ रहा. दरअसल ये शख्स कोई और नहीं बल्कि उनकी गर्लफ्रेंड चित्रा थीं. उस वक्त चित्रा एक थियेटर आर्टिस्ट थी और अमोल की छोटी बहन की क्लासमेट थी. इसी दौरान दोनों का मिलना जुलना बढ़ा और दोस्ती हो गई. फिर वो वक्त भी आया जब दोनों एक-दूसरे के करीब आ गए.

अमोल पालेकर और चित्रा साथ में थियेटर जाने लगे और साथ में रिहर्सल करने लगे. इसी दौरान अमोल की मुलाकात सत्यदेव दूबे से हुई. उन्होंने अमोल को एक्टिंग में जाने के लिए प्रेरित किया. डायरेक्टर बासु चटर्जी ने उन्हें एक फिल्म के लिए अप्रोच किया लेकिन उन्होंने मना कर दिया. बासु चटर्जी ने हिम्मत नहीं हारी और अगली फिल्म के लिए फिर से अमोल के पास पहुंचे. आखिरकार अमोल ने हां कर दी. बस फिर क्या था अमोल की करियर की दिशा ही बदल गयी.

अमोल पालेकर ने पहली शादी चित्रा पालेकर से की. दोनों की बेटी शलमाली हुईं. वो आजकल ऑस्ट्रेलिया की एक यूनिवर्सिटी में पढ़ाती हैं. 2013 में चित्रा से तलाक के बाद दूसरी शादी उन्होंने संध्या गोखले से की. उससे उनकी एक बेटी मसीहा है. वहीं फिल्मों से दूर अमोल पालेकर आजकल पेंटिंग का काम कर रहे हैं.

अपनी एक्टिंग के लिए कई अवार्ड जीते:

दमदार और नैचरल ऐक्टिंग की बदौलत उन्होंने फिल्मफेयर अवॉर्ड भी अपने नाम किया. इसके साथ ही उन्हें बेस्ट ऐक्टर के 6 स्टेट अवॉर्ड भी मिले. उन्होंने ‘गोलमाल’, ‘घरौंदा’ और ‘बातों-बातों में’ जैसी कई बेहतरीन फिल्में कीं. अमोल पालेकर न सिर्फ हिंदी और मराठी फिल्मों में बल्कि बंगाली, मल्यालम और कन्नड़ जैसी भाषाओं की सिनेमा में भी नजर आए. इसने उनके वर्सटाइल ऐक्टर होने का सबूत दिया.

निर्देशन के क्षेत्र में आने के लिए उन्होंने 1986 में ऐक्टिंग छोड़ दी. इसके बाद उन्होंने कई टीवी सीरियल भी बनाए हालांकि, बाद में साल 1994, 2001 और 2009 में वह तीन फिल्मों के जरिए फिर सिल्वर स्क्रीन पर दिखाई दिए.


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.