विश्व भर में जाजुराना पक्षी की संख्या सीमित होती जा रही है

Er S D Ojha

हिमाचल प्रदेश का राज्य पक्षी पहले मोनाल था । लेकिन मोनाल उत्तराखण्ड और नेपाल का भी राज्य पक्षी है । इसलिए हिमाचल प्रदेश का राज्य पक्षी अलग से होना चाहिए था । चूँकि जाजुराना एक दुर्लभ पक्षी है । इसकी पूरे विश्व में नफरी केवल कुछेक हजारों में सीमित रह गयी है । इसलिए इस पक्षी के संरक्षण के लिए इसे हिमाचल प्रदेश का राज्य पक्षी चुना गया है । जाजुराना एक सुंदर पक्षी है । इसमें कई रंगों का समावेश होता है । इसका मुंह काला , आंख के पास नीलापन और चोंच सफेद होती है ।इसका पूरा शरीर लालिमायुक्त एवं उस पर सफेद बिंदिया लगीं होती हैं । पूंछ छोटी होती है ।

जाजुराना के संरक्षण के लिए हिमाचल प्रदेश के सरहान में एक प्रजनन केंद्र खोला गया है । यह विश्व का पहला जाजुराना प्रजनन केंद्र है । यहाँ पर सर्व प्रथम 29 जाजुराना पक्षी लाकर रखे गये थे । 2018 में खुशी की खबर आई । 8 नये चूजों ने जनम लिया था । इनकी संख्या में इजाफा हुआ । तब से हर साल जाजुराना की संख्या में बढोत्तरी हो रही है । प्रजनन केंद्र के कर्मचारी हर साल कुछ पक्षी जंगलों में छोड़ देते हैं ताकि वे अपना प्राकृतिक स्वभाव से जुड़ें रहें । वे पेड़ों पर रहें । चहकें । हवा में उड़ें और धूप हवा पानी का आन्नद लें ।

हिमाचल प्रदेश में आने वाले पर्यटकों को यह प्रजनन केंद्र अपनी तरफ आकर्षित करता है । पर्यटक जाजुराना को देखने के लिए जंगल में भटकने की बजाय इस केंद्र में आना जरुरी समझते हैं । इस प्रजनन केंद्र में अण्डे सेंकने का काम मशीन करती है । मादा जाजुराना का काम केवल अण्डे देना होता है । लेकिन ऐसा करने से डर है कि मादा जाजुराना अण्डे सेंकने की इस नैसर्गिक कार्य को भूल न जाय । जंगल में छोड़े जाने पर वह अण्डे सेंकने का काम कहीं त्याग न दे ।

कुल्लु के हिमालयन पार्क में भी कुछेक जाजुराना रखे गयें हैं , उनके संरक्षण व संवर्धन के लिए । अभी इस केंद्र की सफलता की रिपोर्ट नहीं मिली है । उम्मीद है कि अच्छी रिपोर्ट मिलेगी । हाल फिलहाल सरहान प्रजनन केंद्र की सफलता से आस्ट्रेलिया ने सबक लिया है । वे अपने यहाँ भी एक ऐसा हीं प्रजनन केंद्र खोलने की आवश्यकता शिद्दत से महसूस करने लगे हैं । यह जाजुराना के संरक्षण और संवर्धन के लिए एक महत्वपूर्ण व अच्छा कदम है ।


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.