बिहार वासियों के नाम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का सन्देश !!

प्रिय बहनों, भाईयों, सम्मानित बुजुर्गों !

मैं आपको धन्यवाद देना चाहूंगा कि आप सभी ने वर्ष 2005 से मुझे बिहार की सेवा करने का मौका दिया. हमलोगों ने समाज में अमन -चैन और भाईचारे का वातावरण बनाया, डर का माहौल ख़त्म हुआ और सभी क्षेत्रों में विकास का मार्ग प्रशस्त हुआ. हमने शिक्षा-स्वास्थ्य के क्षेत्र पर विशेष ध्यान दिया है. छात्र- छात्राओं को साइकिल, पोशाक, छात्रवृति दी गयी. अस्पतालों में ईलाज की बेहतर व्यवस्था की गयी. हज़ारों सड़कों और पुलों का निर्माण किया गया जिससे 6 घंटे में राज्य के सबसे दूरस्थ इलाकों से भी पटना पहुंचना संभव हो सका. विकसित बिहार के 7 निश्चयों के तहत हर घर में बिजली पहुंचा दिया। हर घर में शौचालय का काम, हर टोले तक सम्पर्कता का काम लगभग पूर्ण है. 83 प्रतिशत घरों में पीने का पानी और अधिकाँश घरों तक पक्की गली- नालियां बन गयी हैं. लक्ष्य लगभग पूरा हुआ है, बचे हुए काम भी शीघ्र पूर्ण होंगे.

पंचायती राज संस्थाओं और नगर निकायों में 50 प्रतिशत आरक्षण के अलावा महिलाओं को सरकारी नौकरियों में 35 प्रतिशत आरक्षण दिया गया. 10 लाख से अधिक जीविका समूहों के माध्यम से 1 करोड़ 20 लाख महिलाओं को जोड़ा गया. इससे उनमें चेतना आयी. काम तो हमने हर समुदाय और समाज के सभी वर्गों के लिए किया. खासकर महिला, अनुसूचित जाति- जनजाति, अति पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यकों को विकास की मुख्य धारा में लाने के लिए कई कल्याणकारी कार्यक्रम चलाये गए हैं. किसानों की आय बढ़ाने के लिए कई योजनाएं चलाई गयी हैं. पूर्ण शराबबंदी लागू की गयी. शराबबंदी के लिए तथा बाल विवाह, दहेज़ प्रथा के विरुद्ध सामाजिक अभियान चलाया गया है. लोक शिकायत निवारण कानून के उपयोग से लोगों की समस्यायों का समाधान हो रहा है. जल-जीवन-हरियाली अभियान के माध्यम से जलवायु परिवर्तन के खतरों से निपटने के लिए काम हो रहा है. कोविड महामारी के काल में लोगों को राहत पहुंचाने, जाँच एवं चिकित्सा व्यवस्था के लिए हमने लगभग 10 हज़ार करोड़ रूपये से अधिक की राशि खर्च की है. हमें अभी भी सजग और सचेत रहने की जरुरत है. आपदा प्रबंधन में हमारे पहले कोई ख़ास काम नहीं होता था, हमने ही लोगों को राहत पहुंचानाशुरू किया. हम जमीन पर काम करने में यकीन करते हैं, प्रचार में नहीं.

 

यदि हमें अगली बार सेवा का मौका मिलता है तो हम 7 निश्चय के द्वितीय चरण को लागू करेंगे. इन निश्चयों में युवा शक्ति को हुनरमंद बनाने, महिलाओं को सक्षम एवं स्वाबलंबी बनाने, हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचाने, स्वच्छ एवं समृद्ध गांव तथा शहर बनाने, महत्वपूर्ण स्थानों तक सुलभ सम्पर्कता पहुंचाने के साथ-साथ मनुष्य एवं पशुओं के लिए बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएँ देने का संकल्प है.

अब बिहारी कहलाना अपमान नहीं, बल्कि गर्व का विषय है. हमने जो काम किया वह सब आपके सामने है. लोगों की सेवा करना ही हमारा धर्म है. मुझे विश्वास है कि आपके सहयोग और आशीर्वाद से आने वाले दिनों में हम राज्य को विकास की और उंचाईयों तक पहुंचाते हुए सक्षम एवं स्वावलम्बी बिहार बनाएंगे.
धन्यवाद, जय बिहार.

नीतीश कुमार.


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.