क्या मधेपुरा विधानसभा जाप अध्यक्ष पप्पू यादव को हाँ कहेगा?

Balendushekhar Mangalmurty

पटना जल जमाव के समय पप्पू यादव की बढ़ी हुई गतिविधियों और जल जमाव के दौरान पटना के नागरिकों के लिए हर तरह की सहायता पहुंचाने से बिहार की राजनीति में उनकी विजिबिलिटी बढ़ी है. इतना ही नहीं उन्होंने पिछले विधानसभा चुनाव के बाद से लगातार प्रदेश का दौरा किया है और जमीन पर लोगों से जुड़ने का प्रयास किया है. कोरोना काल में बिहार के बाहर के लोगों के मदद को तत्पर रहने से उनकी राजनीतिक जमीन मज़बूत हुई है. पटना यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट इलेक्शन में भी जाप के कैंडिडेट्स ने बेहतर प्रदर्शन करके सबको चौंकाया है.
निःसंदेह पिछले दो सालों में पप्पू यादव के राजनीतिक कद में इज़ाफ़ा हुआ है. जहाँ एक तरफ उनके पुराने राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी आनंद मोहन अभी भी जेल की सलाखों के पीछे रहकर अपना राजनीतिक वजूद लगभग खो चुके हैं, वहीँ पप्पू यादव सीमांचल की राजनीति से बाहर निकलकर पुरे बिहार में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में लगे हैं. इन प्रयासों में उन्हें कितनी सफलता हाथ लगती है, बिहार की राजनीति के किंग तो नहीं, मगर किंग मेकर बन पाएंगे या नहीं, इसका फैसला 10 नवम्बर को वोटों की गिनती के बाद होगा.
फिलहाल उन्होंने अपनी पार्टी जाप के सिम्बल पर मधेपुरा से नामांकन दाखिल कर दिया है. इसके साथ ही मधेपुरा विधानसभा हॉट सीट बन गया है.

मधेपुरा की सामाजिक संरचना को इंगित करता एक कहावत प्रसिद्द है- ‘रोम पोप का, मधेपुरा गोप का’, मधेपुरा लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत पड़ने वाले मधेपुरा लोकसभा सीट पर त्रिकोणीय मुकाबला देखने को मिलेगा. इस त्रिकोण के तीन कोण हैं, राजद के मौजूदा विधायक चंद्रशेखर, जदयू उम्मीदवार निखिल मंडल और जाप अध्यक्ष पप्पू यादव. तीनों उम्मीदवार यादव जाति से आते हैं. चंद्रशेखर पिछले दो बार से इस सीट से जीत हासिल करते आये हैं, निखिल मंडल बी पी मंडल के परिवार से आते हैं. पप्पू यादव की बात करें तो लगभग दो दशक के बाद वे विधानसभा के लिए दावेदारी पेश कर रहे हैं.

बिहार विधानसभा चुनाव २०२० के अंतिम चरण यानि 7 नवम्बर को मधेपुरा विधानसभा में चुनाव होना है. इस सीट पर यादव वोटरों की संख्या सबसे अधिक है. वहीं मुस्लिम, पासवान, रविदास, कोइरी और राजपूत भी अच्छी खासी संख्या में हैं. कुल वोटरों की संख्या 3.18 लाख है जिसमें पुरुष वोटर- 1.64 लाख और महिला वोटर्स -1.52 लाख हैं. 10 ट्रांसजेंडर वोटर्स भी हैं.

1977 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के जय कृष्ण यादव विधायक बने. साल 1980 के चुनाव में जनता दल से राधाकांत यादव ने चुनावी जीत हासिल की. 1985 में कांग्रेस के भोला प्रसाद यादव, 1990 में जनता दल के राधाकांत यादव और 1995 में जनता दल के प्रामेश्वरी प्रसाद नरेला यहां से जीतकर विधायक बने. इसके बाद 2000 में RJD के राजेंद्र प्रसाद यादव और 2005 में JDU के महेंद्र कुमार मंडल यहां से जीते थे. 2010 विधानसभा चुनाव में चंद्र शेखर यहां से जीतकर विधायक बने थे. 2015 विधानसभा चुनाव में राजद के चंद्र शेखर ने भाजपा के विजय कुमार को 37,642 वोटों से मात दी थी.

सिंहेश्वर विधानसभा क्षेत्र से अपनी राजनीतिक सफर शुरू करने वाले राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव लंबे अरसे के बाद एक बार फिर विधायक बनने के लिए मैदान में हैं. पप्पू यादव ने सिंहेश्वर विधानसभा से अपना राजनीतिक सफर निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर शुरू किया. जनता दल के सियाराम यादव को पराजित कर पप्पू यादव विजयी हुए थे. 1991 उन्होंने पूर्णिया निर्वाचन क्षेत्र से 10वीं लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत हासिल की. 1996 में उन्हें पूर्णिया से सपा उम्मीदवार के रूप में दूसरे कार्यकाल के लिए फिर से चुना गया, जहां उन्होंने भाजपा के राजेंद्र प्रसाद गुप्ता को 3,16,155 मतों के अंतर से हराया. वे 1998 के चुनावों में बीजेपी के जय कृष्ण मंडल से हार गये थे.1999 उन्हें एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में पूर्णिया से 13वीं लोकसभा के लिए चुना गया, जहां उन्होंने अपने पूर्व प्रतिद्वंद्वी जय कृष्ण मंडल को 2,52,566 मतों के अंतर से हराया. 2004 मधेपुरा से राजद उम्मीदवार के रूप में आगामी उप-चुनावों में उन्हें फिर से चुना गया, जहां उन्होंने जदयू के राजेंद्र प्रसाद यादव को बड़े अंतर से हराया. वे 16वीं लोकसभा मधेपुरा से चुने गये, जहां उन्होंने जेडीयू के शरद यादव को 56,209 मतों के अंतर से हराया. 2015 में उन्होंने अपनी पार्टी जन अधिकार पार्टी बनायी, लेकिन कोई भी सीट जीतने में नाकाम रहे.
पिछले पांच सालों में पप्पू यादव की बिहार में सबसे एक्टिव रहने वाले राजनेताओं में गिनती हुई है.
फिलहाल तीनों उम्मीदवारों का भाग्य ईवीएम मशीन में 7 नवम्बर को बंद होगा, और फैसला 10 नवम्बर को सुनाया जायेगा. बिहार की जनता को इस हॉट सीट पर नतीजे का बेसब्री से इन्तजार है.


[jetpack_subscription_form title="Subscribe to Marginalised.in" subscribe_text=" Enter your email address to subscribe and receive notifications of Latest news updates by email."]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.