तीसरी कसम (1966): एक था हीरामन; एक थी हीराबाई !

Balendushekkhar Mangalmurty कुछ फ़िल्में ऐसी होती हैं जो अपने दौर में असफल हो जाती हैं. संगीत, पटकथा, कहानी, स्टार कास्ट,

Read more

राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित फिल्म “तीसरी कसम” जिसकी व्यवसायिक असफलता ने शैलेन्द्र की जान ले ली

Er S D Ojha 1966 में तीन फिल्में एक साथ रिलीज हुईं थीं. गाइड, तीसरी कसम और दिल दिया और

Read more